भगवान शिव को अतिप्रिय श्रावण मास 2022 में 14 जुलाई के दिन से शुरु होने जा रहा है।

इस वर्ष सावन माह में कुल पांच सोमवार पड़ेंगे।

प्रथम

श्रावण सोमवार

सावन माह का पहला श्रावण सोमवार 18 जुलाई को है। भगवान शिव के प्रिय सावन मास में 21 बिल्वपत्रों पर चंदन से ऊं नम: शिवाय लिखकर शिवलिंग पर चढ़ाएं, ऐसा करने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

श्रावण सोमवार

सावन माह का दूसरा सोमवार 25 जुलाई को है, इस दिन भगवान शिव का जल से अभिषेक करें और उन्हें काले तिल अर्पण करें।

द्वितीय

श्रावण सोमवार

सावन माह का तीसरा सोमवार 1 अगस्त को है, इस दिन भगवान शिव के महामृत्युंजय मंत्र या ऊं नम: शिवाय या ऊं चंद्र प्रभु नमो नम: मंत्र का 108 बार जप करें।

तृतीय

चतुर्थ श्रावण सोमवार

सावन माह का चौथा सोमवार 8 अगस्त को है, इस दिन भगवान महाकालेश्वर शिव जी की पूजा आराधना करें और शिवलिंग पर एक मुट्ठी सफेद तिल चढ़ाये।

श्रावण सोमवार

अंतिम एवं पांचवा सावन सोमवार 12 अगस्त को है, इस दिन शिव मंदिर में दीपक जलाएं।

पंचम